Naxilites Trying To Prepare The Ground Again

Naxalities

लखनऊ (जागरण ब्यूरो)। सरकार भले गुमान में हो कि उसने इनामी हार्डकोर नक्सलियों को गिरफ्तार करके उनकी सक्रियता कम कर दी है, लेकिन नक्सली अब अपनी सरहद से बाहर कदम बढ़ाने में जुट गए हैं। उत्तर प्रदेश के कई जिलों में नक्सली जमीन तैयार हो रही है। 

इलाहाबाद, कौशांबी, लखीमपुर खीरी, गाजीपुर, बरेली, बलिया, शाहजहांपुर, बहराइच, देवरिया, कुशीनगर, कानपुर, महराजगंज, सिद्धार्थनगर, गोंडा, समेत कई जिलों में नक्सली सक्रियता बढ़ रही है। नेपाल बार्डर से सटे जिलों में इनका नेटवर्क बन गया है और माओवादियों से इनके रिश्ते निरंतर मजबूत हो रहे हैं। नेपाल, छत्तीसगढ़ और झारखंड से प्रशिक्षण लेकर लौट रहे नक्सली सूबे में अपनी विचारधारा और संगठन को मजबूत करने में जुटे हैं।
बीते वर्ष पुलिस ने सीपीआइ माओ सोनगंगा-विंध्य एरिया के जोनल कमाडर मुन्ना विश्वकर्मा और अजीत कोल तथा हार्डकोर नक्सली लालव्रत कोल को गिरफ्तार कर नक्सलियों को नेतृत्व विहीन कर दिया था। लेकिन हाल के कुछ महीनों में नव धनाढ्यों, तेंदू पत्ता और कोयला कारोबारियों तथा जमींदारों से नक्सलियों ने वसूली भी शुरू कर दी है। इनके कुछ नये नेता भी उभरने लगे हैं।
-----------------
बलिया को नक्सल प्रभावित घोषित करने का प्रस्ताव
बलिया जिले को नक्सल प्रभावित जिला घोषित करने का प्रस्ताव शासन ने तैयार किया है। केंद्र सरकार से अनुमति मिलने के बाद बलिया भी नक्सल प्रभावित घोषित हो जाएगा। पुलिस महकमे ने इस जिले में नक्सलियों की बढ़ती सक्रियता के मद्देनजर यह प्रक्रिया शुरू की है। 18 नवंबर 2012 को सहतवार थाना क्षेत्र के अतरडलिया गांव में नक्सल गु्रप के लोगों ने फूलमती की हत्या कर दी। असल में नक्सली गतिविधियों में सक्रिय कन्हैया चौहान, राजेन्द्र चौहान, दशरथ चौहान और वीरेन्द्र चौहान ने अपनी पुश्तैनी रंजिश के प्रतिशोध में नक्सल गु्रप को बुलाकर ग्राम प्रधान फूलमती की हत्या करा दी। इस घटना से पूरे इलाके में नक्सलियों का खौफ बढ़ गया। इसी के मद्देनजर बलिया को नक्सल जिला घोषित करने की सिफारिश की गयी है।
-----------------
नक्सलियों को मुख्य धारा में लाने की पहल
एडीजी/आइजी कानून-व्यवस्था आरके विश्वकर्मा का मानना है कि नक्सलियों की सक्रियता से इंकार नहीं किया जा सकता है, लेकिन पुलिस इन्हें मुख्य धारा में लाने की निरंतर पहल कर रही है। कम्युनिटी पुलिसिंग के जरिए जनचौपाल, बाल मित्र योजना, परिवार परामर्श केन्द्र, मोहल्ला डिफेंस सोसाइटी, आपरेशन सीनियर सिटीजन, आपरेशन विजिटर्स डे जैसे कार्यक्रमों को संचालित कर इनके बीच बेहतर माहौल सृजित करने में भी पुलिस जुटी है।

Source- News in Hindi