Bcb Teachers Contract Appointment Problem

बरेली कॉलेज में इन दिनों एडहॉक टीचर्स की नियुक्ति के लिए मैरॉथन दौड़ चल रही है. जिसको लेकर पूरे कैंपस में हलचल मची हुई है. काफी समय बाद बीसीबी ने एडहॉक टीचर्स की नियुक्ति के लिए अपना पुराना प्रोसेस अपनाया है. जहां एक तरफ उनकी नियुक्ति को लेकर कॉलेज मिनिमम स्टैंडर्ड की दुहाई दे रहा है तो दूसरी तरफ जब उनकी सैलरी की बात आती है तो सारे मिनिमम स्टैंडर्ड धरे के धरे रह जा रहे हैं. जिसको लेकर एडहॉक टीचर्स में काफी नाराजगी है. हालांकि अभी नियुक्ति प्रक्रिया चल रही है, इसलिए टीचर्स कॉलेज के खिलाफ खुलकर नहीं बोल रहे हैं.

डिमांड से काफी कम हैं परमानेंट टीचर्स

बरेली कॉलेज में परमानेंट टीचर्स की संख्या लगातार कम होती जा रही है. हर वर्ष करीब एक दर्जन टीचर्स रिटायर्ड हो जाते हैं, उसके सापेक्ष टीचर्स की नियुक्ति नहीं हो पा रही है. वर्तमान में करीब 150 टीचर्स ही परमानेंट हैं. इनके साथ हर डिपार्टमेंट में एडहॉक टीचर्स की नियुक्ति होती है. हर वर्ष सेशन स्टार्ट होने के बाद एडहॉक टीचर्स की लिस्ट तैयार होती है और उन्हें डिपार्टमेंट के डिमांड के अनुसार नियुक्त किया जाता है.

रिटायर्ड टीचर्स ने बिगाड़ा गणित

रिटायर्ड टीचर्स की नियुक्ति की योजना ने एडहॉक टीचर्स की रही सही गणित भी बिगाड़ दिया. लास्ट ईयर शासन ने इसके लिए जीओ जारी किया था. जिसके तहत रिटायर्ड टीचर्स रखे जा सकते हैं, जिनको करीब 22 से 25 हजार रुपए महीने सैलरी दिए जाना कंपलसरी है. See more  - http://inextlive.jagran.com/bcb-teachers-contract-appointment-problem-88148